Blogइतिहासक्रांतिकारीदेशराजनीतिलाइफस्टाइलशख्सियत

‘नरेंद्र दामोदरदास मोदी’ बचपन मे चाई बेचनेसे प्रधानमंत्री तक का ‘मोदीनामा’

Share

नमस्कार ,

     नरेन्द्र भाई दामोदरदास मोदी, जन्म:- सितम्बर 17, 1950 वड्नगर [गुजरात]

     वडनगर के एक गुजराती परिवार में जन्म हुआ , नरेंद्र ने अपने बचपन में चाय बेचने में अपने पिता की मदद की, और बाद में अपना खुद का स्टाल चलाया। आठ वर्ष की आयु में वे आरएसएस से जुड़े और रास्ट्र भक्ति के रंग मे रंग गए , जिसके साथ एक लम्बे समय तक सम्बन्धित रहे। बचपन के जीवनमे देश की विचारधारा के साथ जुड़े रहे ऐसा कई प्रमाण मिलते है | स्नातक होने के बाद उन्होंने अपना घर छोड़ दिया। नरेंद्रने दो साल तक भारत भरमें यात्रा की, और अनेकों धार्मिक केन्द्रों का दौरा किया। 1969 या 1970 वे गुजरात लौटे [नरेंद्र मोदी के अनुसार ऊपर से आदेश आया की अमदावाद जाकर राजकारण जाइंट करो] उसके बाद अहमदाबाद चले गए।

    1971 में वह आरएसएस के लिए पूर्णकालिक कार्यकर्ता बन गए। 1975 में देश भर में आपातकाल की स्थिति के समय उन्हें कुछ समय के लिए अज्ञातवास करना पड़ा,वो अज्ञात वास क्यू करना पड़ा इसके लिए प्रमाण के साथ एक सत्य की शोध का ‘सत्यनामा’ शृंखला के रूप मे प्रस्तुत करेंगे, जिसमे देश के उन टिकाकारों जो कहते है की मोदी ने क्या किया ? उनका सत्य जवाब पुख्ता प्रमाण के साथ प्रस्तुत करेंगे की देश के एक सामान्य परिवार के एक लड़के मे  देश के लिए कबसे रास्ट्र भावना उत्त्पन हुई और उस समय के सताधारी इस नरेंद्र नाम के एक सामान्य गुजराती लड़के से क्यो गभराए ?और इस  सामान्य नरेंद्र नामके गुजराती लड़के को अज्ञातवास मे क्यू जाना पड़ा ? 1985 में वे बीजेपी से जुड़े और 2001 तक पार्टी पदानुक्रम के भीतर कई पदों पर कार्य किया, जहाँ से वे धीरे धीरे भाजपा में सचिव के पद पर पहुँचे गए।

     गुजरात भूकम्प २००१, (भुज में भूकम्प) के बाद गुजरात के तत्कालीन मुख्यमन्त्री केशुभाई पटेल के असफल स्वास्थ्य और खराब सार्वजनिक छवि के कारण श्री नरेंद्र मोदी को 2001 में गुजरात के मुख्यमन्त्री पद पर नियुक्त किया गया। श्री नरेंद्र मोदी शीघ्र ही विधायी विधानसभा के लिए चुने गए। 2002 के गुजरात दंगों में उनके प्रशासन को कठोर माना गया है, इस समय उनके संचालन की आलोचना भी हुई। हालाँकि सर्वोच्च न्यायालय द्वारा नियुक्त विशेष जाँच दल (एसआईटी) को अभियोजन पक्ष की कार्यवाही आरम्भ करने के लिए कोई प्रमाण नहीं मिला। गुजरात के मुख्यमन्त्री के रूप में उनकी नीतियों को आर्थिक विकास को प्रोत्साहित करने के लिए श्रेय दिया गया।

      वे गुजरात राज्य के 14वें मुख्यमन्त्री रहे। और घटना देखिये 2014 मे ही वह देश के 14 वे प्रधानमंत्री बने | यह कुदरती चमत्कार-योग था या भारत का भविष्य ? उन्हें उनके अच्छे कामों के कारण गुजरात की जनता ने लगातार 4 बार (2001 से 2014 तक) गुजरात का मुख्यमन्त्री चुना। गुजरात विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में स्नातकोत्तर डिग्री प्राप्त श्री नरेन्द्र मोदी विकास पुरुष के नाम से जाने जाते हैं और वर्तमान समय में देश के सबसे लोकप्रिय नेताओं में से हैं॥ टाइम पत्रिका ने मोदी को पर्सन ऑफ़ द ईयर 2013 के 42 उम्मीदवारों की सूची में शामिल किया है। 

      अटल बिहारी वाजपेयी की तरह नरेन्द्र मोदी एक राजनेता और कवि हैं। वे गुजराती भाषा के अलावा हिन्दी में भी देशप्रेम से ओतप्रोत कविताएँ लिखते हैं।

      उनके नेतृत्व में भारत की प्रमुख विपक्षी पार्टी भारतीय जनता पार्टी ने 2014 का लोकसभा चुनाव लड़ा और 282 सीटें जीतकर अभूतपूर्व सफलता प्राप्त की। एक सांसद के रूप में उन्होंने उत्तर प्रदेश की सांस्कृतिक नगरी वाराणसी एवं अपने गृहराज्य गुजरात के वडोदरा संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ा और दोनों जगह से जीत दर्ज की। उनके राज में भारत का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश एवं बुनियादी सुविधाओं पर खर्च तेजी से बढ़ा। उन्होंने अफसरशाही में कई सुधार किये तथा योजना आयोग को हटाकर नीति आयोग का गठन किया।

    इसके बाद वर्ष 2019 में भारतीय जनता पार्टी ने उनके नेतृत्त्व में दोबारा चुनाव लड़ा और इस बार पहले से भी ज्यादा बड़ी जीत हासिल हुई। पार्टी ने कुल 303 सीटों पर जीत हासिल की। भाजपा के समर्थक दलों यानी राजग को कुल 352 सीटें प्राप्त हुईं।30 मई 2019 को शपथ ग्रहण कर नरेन्द्र मोदी लगातार दूसरी बार प्रधानमन्त्री बने।

     2019 के आम चुनाव में उनकी पार्टी की जीत के बाद, उनके प्रशासन ने जम्मू और कश्मीर की विशेष राज्य का दर्जा को रद्द कर दिया। उनके प्रशासन ने नागरिकता (संशोधन) अधिनियम, २०१९ भी पेश किया, जिसके परिणामस्वरूप देश भर में व्यापक विरोध प्रदर्शन हुए। मोदी अपने हिन्दू राष्ट्रवादी विश्वासों और 2002 के गुजरात दंगों के दौरान उनकी कथित भूमिका पर घरेलू और अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर विवाद का एक आँकड़ा बना हुआ है, जिसे एक बहिष्कारवादी सामाजिक एजेण्डे के प्रमाण के रूप में उद्धृत किया गया है। मोदी के कार्यकाल में, भारत ने लोकतान्त्रिक बैकस्लेडिंग का अनुभव किया है।

निजी जीवन

     नरेन्द्र मोदी का जन्म तत्कालीन बॉम्बे राज्य के महेसाना जिला स्थित वडनगर ग्राम में हीराबेन मोदी और दामोदरदास मूलचन्द मोदी के एक मध्यम-वर्गीय परिवार में १७ सितम्बर १९५० को हुआ था। वह पैदा हुए छह बच्चों में तीसरे थे। मोदी का परिवार ‘मोध-घांची-तेली समुदाय से है , जिसे भारत सरकार द्वारा अन्य पिछड़ा वर्ग के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। वह पूर्णत: शाकाहारी हैं। भारत पाकिस्तान के बीच द्वितीय युद्ध के दौरान अपने तरुणकाल में उन्होंने स्वेच्छा से रेलवे स्टेशनों पर सफ़र कर रहे सैनिकों की सेवा की युवावस्था में वह छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में शामिल हुए | उन्होंने साथ ही साथ भ्रष्टाचार विरोधी नव निर्माण आन्दोलन में हिस्सा लिया। एक पूर्णकालिक आयोजक के रूप में कार्य करने के पश्चात् उन्हें भारतीय जनता पार्टी में संगठन का प्रतिनिधि मनोनीत किया गया। किशोरावस्था में अपने भाई के साथ एक चाय की दुकान चला चुके मोदी ने अपनी स्कूली शिक्षा वड़नगर में पूरी की। उन्होंने आरएसएस के प्रचारक रहते हुए 1980 में गुजरात विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में स्नातकोत्तर परीक्षा दी और विज्ञान स्नातकोत्तर की डिग्री प्राप्त की।

     अपने माता-पिता की कुल छ: सन्तानों में तीसरे पुत्र नरेन्द्र ने बचपन में रेलवे स्टेशन पर चाय बेचने में अपने पिता का भी हाथ बँटाया। बड़नगर के ही एक स्कूल मास्टर के अनुसार नरेन्द्र हालाँकि एक औसत दर्ज़े का छात्र था, लेकिन वाद-विवाद और नाटक प्रतियोगिताओं में उसकी बेहद रुचि थी। इसके अलावा उसकी रुचि राजनीतिक विषयों पर नयी-नयी परियोजनाएँ प्रारम्भ करने की भी थी।

     13 वर्ष की आयु में नरेन्द्र की सगाई जसोदा बेन चमनलाल के साथ कर दी गयी और जब उनका विवाह हुआ, तब वह मात्र 17 वर्ष के थे। फाइनेंशियल एक्सप्रेस की एक खबर के अनुसार पति-पत्नी ने कुछ वर्ष साथ रहकर बिताये। परन्तु कुछ समय बाद वे दोनों एक दूसरे के लिये अजनबी हो गये क्योंकि नरेन्द्र मोदी ने उनसे कुछ ऐसी ही इच्छा व्यक्त की थी। जबकि नरेन्द्र मोदी के जीवनी-लेखक ऐसा नहीं मानते। उनका कहना है:

       “उन दोनों की शादी जरूर हुई परन्तु वे दोनों एक साथ कभी नहीं रहे। शादी के कुछ बरसों बाद नरेन्द्र मोदी ने घर त्याग दिया और एक प्रकार से उनका वैवाहिक जीवन लगभग समाप्त-सा ही हो गया।”

       पिछले चार विधान सभा चुनावों में अपनी वैवाहिक स्थिति पर खामोश रहने के बाद नरेन्द्र मोदी ने कहा कि अविवाहित रहने की जानकारी देकर उन्होंने कोई पाप नहीं किया। नरेन्द्र मोदी के मुताबिक एक शादीशुदा के मुकाबले अविवाहित व्यक्ति भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ जोरदार तरीके से देश के लिए लड़ सकता है क्योंकि उसे अपनी पत्नी, परिवार व बालबच्चों की कोई चिन्ता नहीं रहती वो देश की चिंता मे रहे शकते है । हालांकि नरेन्द्र मोदी ने शपथ पत्र प्रस्तुत कर जसोदाबेन को अपनी पत्नी स्वीकार किया है। ऐसा प्रमाण कई प्रकाशीत पुस्तके -सोसियल मीडिया और इंटरनेट माध्यम मे मिलता है | हम भारत के कोई भी  राजकीय पक्ष  के अनुयायी नहीं है , सिर्फ सत्य के साथ रहते है | [फोटो इंटरनेट माध्यम]

         ‘नरेंद्र दामोदरदास मोदी’ सिर्फ एक पुरुष का नाम ही नहीं है, इस सदी के युग पुरुष का नाम है ऐसा भारत देश की अधिकतम जनता का कहना है | इस लिए एक युगपुरुष के लिए जितना लिखो उतना कम ही होगा , किसी शायर ने बहुत खूब कहा है की जब बहुत कुछ कहने को जी चाहता हो, तब कुछ ना कहने को जी चाहता है | 

         सत्य की शोध के प्रिय वांचक प्रियजनों को विनंती है की हर आर्टिकल पूरा होने एक बाद आपको सत्य जानकारी मिली हो और आप प्र्शन्न है तो  नीचे एक कॉमेंट बॉक्स होगा जिसमे ईमेल और कॉमेंट करके सबस्क्राइब करना ना भूले ताकि हम आपके लिए अमूल्य सत्य प्रस्तुत करनेकी सेवा का अवसर मिलता रहे |

   जय हिन्द 

  नरेंद्र वाला

[विक्की राणा]

‘सत्य की शोध’

akhand bharat

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 5 / 5. Vote count: 1

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Related posts

भारत का एक ही ‘रतन’ रतन टाटा का ऐतिहासिक ‘सत्यनामा’

narendra vala

विदेशो के ये शिव मंदिर पाकिस्तान सहित विश्वभर मे शिव का प्रमाण देते है |

narendra vala

गुजरात मे १८५७ की क्रान्ति की चिंगारी | राजा जीवाभाई ठाकोर को गुजरात मे फांसी दी गई | तात्या तोपे के सहकार से अंग्रेज़ो की नींद उड़ादी |

narendra vala

1 comment

situ singh July 1, 2023 at 7:06 PM

waah mere pasadida pradhanmantri modi ji ke bare me aapne bahut hi umdaa jaankari ka lekh diya hai , dhanyavad sir

Reply

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy
error: Content is protected !!